पाठ 2 वन एवं वन्य जीव संसाधन

1 - बहु वैकल्पिक प्रश्न

(i) इनमें से कौन सी टिप्पणी प्राकृतिक वनस्पति और प्राणी जात के रास्ता सही कारण नहीं है ?
(क) कृषि प्रसार
(ख) पशुचारण और ईंधन लकड़ी एकत्रित करना
(ग) वृहत स्तरीय विकास परियोजनाएं
(घ) तीव्र औद्योगीकरण और शहरीकरण 
उत्तर - (ग) वृहत स्तरीय विकास परियोजनाएं

(ii) इनमें से कौन-सा संरक्षण तरीका समुदायो  की सीधी भागीदारी नहीं करता ?
(क) संयुक्त वन प्रबंधन
(ख) बीज बचाओ आंदोलन
(ग) चिपको आंदोलन
(घ) वन्य जीव पशुविहार (santuary) का परिसीमन
उत्तर - (घ) वन्य जीव पशुविहार (santuary) का परिसीमन

2 - निम्नलिखित प्राणी पौधे व उनके अस्तित्व के वर्ग से मेल करें





3 - निम्नलिखित का मेल करें




4 - निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए 

(i) जैव विविधता क्या है ? यह मानव जीवन के लिए क्यों महत्वपूर्ण है ?
उत्तर - जीव विविधता से अभिप्राय पृथ्वी पर पाई जाने वाली विभिन्न वनस्पति एवं  प्राणियों की प्रजातियों से है जो प्रायः अपने कार्यों एवं आधार पर भिन्न भिन्न होते हैं जीव विविधता मानव जीवन के लिए अति महत्वपूर्ण है मानव तथा दूसरे अन्य जीवधारी एक जटिल पारिस्थितिक तंत्र का निर्माण करते हैं तथा हम अपने अस्तित्व को बनाए रखने के लिए इसके विभिन्न तत्वों पर परस्पर निर्भर करते हैं अतः यह हमारे लिए विभिन्न प्रकार से महत्वपूर्ण सिद्ध होते हैं उदाहरण के लिए हवा पानी तथा मिट्टी आदि जीवन यापन के लिए आवश्यक है वही पेड़ पौधे पशु तथा विभिन्न सूक्ष्म जीवी इनका सृजन करते हैं इस प्रकार से यह परस्पर निर्भर होते हैं


(ii) विस्तारपूर्वक बताएं कि मानव क्रिया किस प्रकार प्राकृतिक वनस्पति जात और प्राणी जात के ह्रास के कारक हैं ?
उत्तर - मानव क्रियाए निम्निखित प्रकर से प्राकृतिक वनस्पति जात और प्राणी जात के ह्रास के कारक हैं :-
(क) बढ़ती खाद्यान्न जरूरतों की पूर्ति हेतु पेड़ों की कटाई वन संसाधनों में कमी एक प्रमुख उत्तरदाई कारक रहा है
(ख) अत्याधिक पशुचारण इंधन के लिए लकड़ी तथा संवर्धन वृक्षारोपण अथार्थ एकल वृक्ष जातियों के बड़े पैमाने पर रोपण ने भी वनस्पति विनाश में बड़ी भूमिका निभाई है
(ग) जंगलों की बर्बादी के लिए खनन क्रियाएं भी काफी सीमा तक जिम्मेदार हैं
(घ) इसके अतिरिक्त औपनिवेशिक काल में रेलवे लाइन, कृषि, वाणिज्य वानिकी और खनन क्रियाओं से जंगल को सर्वाधिक क्षति पहुंची है

5 - निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 120 शब्दों में दीजिए

(i) भारत में विभिन्न समुदायों ने किस प्रकार वनो और वन्य जीव संरक्षण और रक्षण में योगदान किया है विस्तार पूर्वक विवेचना करें
उत्तर -
(क) राजस्थान के बिश्नोई समुदाय के गांवों में काले हिरण, चिंकारा, नीलगाय एवं मोरों का शिकार वर्जित है
(ख टिहरी के किसानों द्वारा लिए गए ''बीज बचाओ'' आंदोलन तथा नवदान्य ने सिद्ध कर दिया कि रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग के बिना भी आर्थिक रुप से व्यवहारी कृषि संभव है
(ग)इसी प्रकार छोटा नागपुर क्षेत्र में मुंडा तथा संथाल जनजातियों द्वारा महुआ एवं कदंब के वृक्ष की पूजा ने इन वृक्षों को संरक्षण प्रदान किया है

(ii) वन और वन्य जीव संरक्षण में सहयोगी रीति रिवाज पर एक निबंध लिखिए
उत्तर - भारत एक सांस्कृतिक विविधता वाला देश है जहां लोगों के अलग-अलग रीति-रिवाज के द्वारा वह प्रयः  प्रकृति से अपनी निकटता को व्यक्त करता है इन विवादों में जंगली जीवों से संबंधित कुछ रीति रिवाज है जो वन एवं वन्य जीवों की सुरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं राजस्थान के बिश्नोई समाज खेजरी के पेड़, काले हिरण, चिंकारा आदि के संरक्षण के लिए पूरे भारत में विख्यात हैं इसी प्रकार बिहार के छोटा नागपुर क्षेत्र में मुंडा एवं संथाल जनजातियों द्वारा महुआ और कदम के वृक्षों की पूजा व उड़ीसा तथा बिहार में शादी के अवसर पर इमली तथा आम के वृक्षों की पूजा इनके संरक्षण में महत्वपूर्ण योगदान दे रही है और पूरे भारत में तुलसी के पौधे को पवित्र समझकर पूजा की जाती है

Post a Comment

0 Comments