पाठ - 1, संसाधन एवं विकास NCERT Solution

पाठ - 1, संसाधन एवं विकास  NCERT Solution


1 - बहुवाकल्पिक प्रश्न 
(I) –  लौह अयस्क किस प्रकार का संसाधन है ?
(a) नवीकरण योग्य
(b) प्रवाह
(C) जैव
(d) अनवीकरण योग्य
उत्तर - (d) अनवीकरण योग्य

(II) - ज्वारीय ऊर्जा निम्नलिखित में से किस प्रकार की संसाधन है
(a) पुन:पूर्ति योग्य
(b) अजैव
(c) मानवकृत
(d) अचक्रिय
उत्तर- (b) अजैव

(III) - पंजाब की भूमि निम्नीकरण का निम्नलिखित मे से मुख्यकारण क्या है ?
(a) गहन खेती
(b) अधिक सिंचाई
(c) वनोंमुलन
(d) अतिपशुचारण
उत्तर - (b) अधिक सिंचाई

(IV) - निम्नलिखित में से किस प्रांत मे सीढ़ीदार (सोपन) खेती की जाती है ?
(a) पंजाब 
(b) उत्तर प्रदेश के मैदान 
(c) हरियाणा 
(d) उत्तरांचल
उत्तर - (d) उत्तरांचल

(V) - इनमें से किस राज्य में काली मृदा पाई जाती है ?
(a) जम्मू कश्मीर 
(b) राजस्थान 
(c) गुजरात 
(d) झारखंड
उत्तर - (c) गुजरात 

प्रश्न 2 - निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए

(I) - तीन राज्यों के नाम बताइए जहां पर काली मृदा पाई जाती है ? इस पर मुख्यता कौन सी फसल उगाई जाती है ?
उत्तर - महाराष्ट्र, गुजरात एवम मध्य प्रदेश में काली मृदा पाई जाती है इस पर ज्यादातर कपास की खेती की जाती है 

(II) - पूर्वी तट के नदी डेल्टा ऊपर किस प्रकार की मृदा पाई जाती है इस पर मुख्य रुप से कौन सी फसल उगाई जाती है
उत्तर - पूर्वी तट के नदी डेल्टा ऊपर ज्यादातर जलोढ़ मृदा में पाई जाती हैं यह पोटाश फास्फोरस एवं चूने से निर्मित होती हैं यह मृदा अधिक उपजाऊ होने के कारण इस पर गहन कृषि की जाती है

(III) - पहाड़ी क्षेत्रों में मृदा अपरदन की रोकथाम के लिए क्या कदम उठाने चाहिए ?
उत्तर - पहाड़ी क्षेत्रों में मृदा अपरदन की रोकथाम के लिए निम्न कदम उठाए जाने चाहिए : -
(a) ढाल वाली जमीन पर समोच्च रेखाओं के समांतर हल चलाने से ढाल की गति कम होती है इसलिए ऐसे क्षेत्रों में समोच्च जुताई को प्राथमिकता दी जानी चाहिए
(b) ढालू जमीन पर सोपन बनाए जाने चाहिए
(c) फसलों के मध्य में घास की पट्टियां उगाकर कर भी मृदा अपरदन कम किया जा सकता है जिससे पट्टी कृषि भी कहते हैं

(IV) जैव और अजैव संसाधन क्या होते हैं ? कुछ उदाहरण दें
उत्तर - जैव संसाधन - जो जैव मंडल में उत्पन्न होते हैं जैव संसाधन कहलाते  हैं उनमें जीवन पाया जाता है,
 जैसे - मानव, वनस्पति, जीव जगत, मत्स्य जीवन आदि
अजैव संसाधन - ऐसे संसाधन जो निर्जीव वस्तुओं से निर्मित होते हैं अजैव संसाधन कहलाते हैं 
जैसे - जल, भवन, जीवाश्म ईंधन आदि

प्रश्न 3 - निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 120 शब्दों में दीजिए

(I) भारत में भूमि इस्तेमाल का निम्नलिखित प्रारूप क्या है ?
उत्तर - (a) भारत में कुल सूचित इलाकों के केवल 54% प्रतिशत हिस्से पर ही खेती की जाती है यदि देखा जाए बोई गई इलाके का प्रतिशत सामान्यता  विभिन्न राज्यों में अलग-अलग हैं
उदाहरण के तौर पर पंजाब और हरियाणा में जहां 80% भूमि पर खेती की जाती है वही अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर एवं मिजोरम जैसे राज्यों में मात्र 10% भूमि पर ही खेती की जाती है
(b)भारत का संपूर्ण भौगोलिक क्षेत्रफल 32.8 वर्ग किलोमीटर है लेकिन इसके 93% भाग के ही भूमि प्रयोग के आंकड़े उपलब्ध हैं

(II) प्रौद्योगिकी और आर्थिक विकास के कारण संसाधनों का अधिक उपभोग कैसे हुआ है ?
उत्तर - प्रौद्योगिकी और आर्थिक विकास के चलते संसाधनों का अधिक इस्तेमाल हुआ है जिसके निम्नलिखित कारण है : -
(a) आर्थिक विकास कई प्रकार के नए संसाधनों का दोहन करने के लिए बाध्य करता है जिसका जिससे उनका अति दहन होता है
(b) जब किसी देश में प्रौद्योगिकी के विकास के परिणाम स्वरूप आर्थिक विकास होता है तो वहां के लोगों के जीवन स्तर में वृद्धि होती है इसके परिणाम स्वरुप मानवीय आवश्यकताएं बढ़ती हैं और संसाधन का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल होता है
(c) चूँकि प्रौद्योगिकी और आर्थिक विकास आपस में अंत: संबंधित है अतः इसके फलस्वरुप संसाधनों का इस्तेमाल होता है

NCERT हल pdf में  download करने के लिए नीचे पाठ के नाम पर click करे 

Post a Comment

0 Comments